Hostinger Genuine Reviews in Hindi – होस्टिंगर से होस्टिंग क्यूँ खरीदना चाहिए ?

Hostinger Genuine Reviews in Hindi – Hello दोस्तों, आज हम Hostinger की सारी अच्छी और बुरी बातें discuss करेंगे। अगर आपको भी जानना है की Beginners के लिए कौनसी होस्टिंग अच्छा है, और मैंने होस्टिंगर की होस्टिंग को ही क्यूँ Recommend करता हूँ? मैं कौनसी होस्टिंग यूज़ करता हूँ ? होस्टिंगर का फायदा क्या क्या है ?

ये सारी बातें इस पोस्ट में आज cover करूँगा। अगर आप बहुत सारी Confusion हैं की ब्लॉगर से वर्डप्रेस पर माइग्रेट करना है तो कौनसी होस्टिंग लेना चाहिए, तो ये पोस्ट पूरा पढ़के अपना confusion दूर कर सकते हैं। तो चलिए शुरू करते हैं –

Hostinger Genuine Reviews in Hindi – होस्टिंगर से होस्टिंग क्यूँ खरीदना चाहिए ?

  आपके मन ये सवाल जरूर उठा होगा की क्या कोई अपने ब्लॉग को होस्ट करने के लिए होस्टिंगर कंपनी की वेबहोस्टिंग का इस्तेमाल कर रहा है? यदि हाँ, तो क्या इसके नुकसान और फायदों क्या क्या है उसके बारे में बता सकते हैं? जी हाँ, मैं होस्टिंगर का इस्तेमाल करते हूँ।

और इससे पहले हमने ब्लूहोस्ट का होस्टिंग भी इस्तेमाल करके भी देखा है। परंतु अगर आप नयें है और आपके ब्लॉग का ट्रेफिक 2 लाख (users – not pageviews) से कम है तो Hostinger का प्लान आपके लिए सबसे अच्छा है।

 क्यूंकि मेरा इस ब्लॉग का ट्रैफिक महीने 80+ हज़ार ट्रैफिक आता है तो मेरा ये ब्लॉग Hostinger की Premium Shared Hosting पर Host है। और मेरा ये ब्लॉग आप तो देख ही पा रहे हैं की कितना स्पीड से लोड हो जाते हैं आपके ब्राउज़र पर। इसमें Hostinger की सबसे अच्छी बात हमें यह लगती है की आपको इसकी होस्टिंग पसंद नहीं आती है तो आप 30 दिन में वापस करके पैसे पा सकते है।

किसी भी ब्लॉग के लिए एक अच्छे अपटाइम, अच्छी स्पीड और कम लोड टाइम वाली वेब होस्टिंग सबसे बेस्ट रहती है। आज से कुछ साल पहले हम किसी भी होस्टिंग पर अपनी वैबसाइट होस्ट करके चला सकते थे और वह वैबसाइट गूगल में रैंक कर जाती थी। परंतु आज गूगल ने स्पष्ट रूप से कहा है की किसी भी ब्लॉग यां वैबसाइट के रैंकिंग फैक्टर में सबसे मुख्य वैबसाइट स्पीड है।

आपकी वैबसाइट की स्पीड कम है और 2 सेकंड से ज्यादा टाइम आपका ब्लॉग लोड होने में लगाता है तो आपका ब्लॉग गूगल में टॉप में रैंक नहीं कर सकता है। 2 सेकंड से ज्यादा समय में ओपन होने वाली वैबसाइट यां ब्लॉग को यूजर छोडकर दूसरे ब्लॉग पर चला जाता है जिससे आपके ब्लॉग का बाउन्स रेट बढ़ेगा। इसलिए किसी भी ब्लॉग के लिए एक अच्छी होस्टिंग उसकी स्पीड को बढ़ा देती है और लोड टाइम कम कर देती है जिससे आपकी साइट गूगल में जल्दी रैंक कर पाती है।

Hostinger की Shared Hosting बिगिनर के लिए क्यों बेस्ट है?

  आप नया ब्लॉग शुरू कर रहे है तो Hostinger की Shared Hosting आपके नयें ब्लॉग के लिए सबसे अच्छी होस्टिंग है, जो आपको कम कीमत पर सबसे अच्छी क्वालिटी देती है। इस होस्टिंग में आपको कुछ ऐसे फीचर मिल जाते है जो शायद आपको दूसरी किसी होस्टिंग के अंदर इस बजट में नहीं मिलने वाले है।

 

कम कीमत पर अच्छी क्वालिटी

  शुरुआत में जब कोई भी ब्लॉगर अपना नया ब्लॉग शुरू करता है तो वह होस्टिंग पर ज्यादा खर्च नहीं कर पाता है। इसलिए उसे एक कम कीमत पर अच्छे फीचर वाली होस्टिंग की जरूरत होती है। जिसमें उसे अपने बजट मे सब कुछ मिल जाए।

तो Hostinger की Hosting नयें ब्लॉगर के लिए एक सबसे अच्छी होस्टिंग होती है। जो कम कीमत पर एक नयें ब्लॉगर को अनेक फीचर देती है। अगर आप नयें ब्लॉगर है और आपका बजट कम है तो आप Hostinger की Hosting ही खरीदें। क्योंकि इसमें आप 3 साल के लिए होस्टिंग खरीदते है तो आपको सिर्फ 59 रुपए महीने के हिसाब से होस्टिंग मिल जाती है।

प्रीमियम फीचर

  इसमें आपको काफी सारे ऐसे फीचर दिये जाते है जो आपको किसी भी दूसरी होस्टिंग में 1400 रूपये में नहीं मिलेंगे। इसमें आपको होस्टिंग के साथ में एक फ्री डोमैन, लाइफटाइम के लिए एक Free SSL Certificate मिल जाता है। जिसे आप अपने किसी एक डोमैन पर use कर सकते है।

99.9% Uptime

किसी भी ब्लॉग के लिए कोई भी होस्टिंग खरीदते समय सबसे ध्यान में रखने वाली बात उस होस्टिंग का अपटाइम है। मैं कोई भी Hosting खरीदने से पहले उसका अपटाइम पहले तथा उसका प्राइस बाद में चेक करता हूँ।

अपटाइम का मतलब है आपकी होस्टिंग हर वक्त आपके ब्लॉग को ऑनलाइन रखता है या कभी कभी यूजर आपके ब्लॉग पर आता है तो उसे कोई Error तो नहीं दिखता है। मैं Hostinger की Hosting खरीदने की इसलिए सलाह देता हूँ इसमें आपको 99.9 प्रतिशत अपटाइम की गारंटी दी जाती है (और सच में इतना अपटाइम मिलता ही है) यानि आपकी वैबसाइट 24 घंटे मे 99.9% प्रतिशत टाइम ऑनलाइन रहेगी।

Free SSL Certificate

 

 

 

  आपका ब्लॉग Secure है यां नहीं यह एक SSL Certificate के द्वारा निर्धारित किया जाता है। अगर आपने अपने ब्लॉग में एसएसएल सर्टिफिकेट नहीं लगाया है, तो आपके ब्लॉग को ओपन करने के बाद कुछ इस प्रकार की Warning दिखाएगा।

इस वार्निंग से बचने के लिए आपको अपने ब्लॉग पर एक एसएसएल सर्टिफिकेट लगाना पड़ेगा, आप कोई एसएसएल सर्टिफिकेट खरीदते है तो यह ऑनलाइन आपको हजारों की कीमत में मिलता है।

परंतु आपको यह एसएसएल सर्टिफिकेट आपके ब्लॉग के लिए Hostinger की Hosting में Free में मिलता है। यह आपको सिर्फ एक वैबसाइट के लिए मिलता है तथा इसकी लाइफटाइम वैल्यू होती है।

अच्छा कस्टमर सपोर्ट

होस्टिंगर आपको 24/7/365 Chat/Email Support देता है। जो कि आपकी वेबसाइट या ब्लॉग में कोई भी प्रॉब्लम आये तो आप chat के थ्रू उनको contact करिये, और वो आपकी प्रॉब्लम solve कर देता है कुछ ही मिनटों के अंदर।

वैसे होस्टिंगर के द्वारा आपको फ़ोन पर तो कस्टमर सपोर्ट नहीं दिया जाता है। आप ईमेल पर कस्टमर सपोर्ट ले सकते है। इनका कस्टमर सपोर्ट मुझे काफी ज्यादा पसंद आया है, क्योंकि इसमें आपको पहली बार थोड़ा लेट सपोर्ट मिलेगा परंतु उसके बाद आपको आपके ईमेल पर 5 मिनट के अंदर ही कस्टमर सपोर्ट मिल जाएगा।

और अगर Chat के थ्रू कांटेक्ट करते हैं तो भी 5 ही मिनट के अंदर आपको reply करते हैं सपोर्ट टीम। कोई भी Hosting खरीदते समय कस्टमर सपोर्ट कैसा है यह जरूर चेक करे, ताकि आपको Hosting Host करते समय कोई प्रॉबलम आए तो उनसे हेल्प ले सके। अगर कस्टमर सपोर्ट अच्छा नहीं होगा तो आपको कोई प्रॉबलम आने पर उनके द्वारा कोई रिप्लाइ ही नहीं दिया जाएगा।

One Month Refund Policy

  अगर आपको एक ऐसा फीचर मिले जिसमें आप Hosting को खरीदने के बाद उसे इस्तेमाल करें और आपको पसंद न आए तो सारा पैसा आपको वापस मिल जाए तो आपको कैसा लगेगा। जी हाँ, Hostinger की किसी भी Hosting को आप खरीदते है और आपको Hosting का Plan पसंद नहीं आता, तो आप एक महीने के अंदर वापस अपना Refund ले सकते है।

आपको बिना किसी सवाल जवाब के होस्टिंग की टीम के द्वारा 48 घंटे के अंदर ही रिफ़ंड कर दिया जाता है। और ऐसा होगा ही नहीं क्यूंकि ये होस्टिंग ही ऐसा है आपको सब कुछ दिया जाता है, जो होस्टिंग के साथ चाहिए, तो आपको रिफंड की जरुरत ही नहीं पड़ेगी।

Hostinger कंपनी को खुद के ऊपर विश्वास है की कस्टमर को सब कुछ ही दिया तो रिफंड मांगेगा ही नहीं, इसलिए उन्होंने Refund Policy भी रखा है। जोकि ज्यादातर होस्टिंग कंपनी कस्टमर्स को रिफंड नहीं हैं।

WordPress Setup

  आपने अपना ब्लॉग WordPress पर बनाना है तो आपको इसमें WordPress Setup भी मिलेगा। आप WordPress के अलावा भी अनेक CMS पर अपनी Website को इसमें डाइरैक्ट डिज़ाइन कर सकते है। इसके लिए आपको ब्लॉग डिज़ाइन करना या वर्डप्रेस को सेटअप करना काफी ज्यादा आसान हो जाता है।

H Panel

  Hostinger की होस्टिंग में आपको C Panel नहीं मिलता है इसमें आपको Hostinger का अपना एक H Panel मिलता है, इस H Panel का आप बड़ी आसानी के साथ उपयोग कर सकते है।

HPanel इतना आसान है की कोई भी इंसान चाहे उन्होंने पहले वर्डप्रेस इस्तेमाल ना भी किया तो वो भी बड़ी आसानी से सब कुछ समझ जायेगा और सेटअप कर पायेगा। H Panel में आपको C Panel वाले सभी फीचर मिल जाते है।

अलग अलग प्लान

  Hostinger में आपको बहुत सारे अलग अलग प्लान मिल जाते है। इसमें आपको Singel Website Host करनी है तो Single Web Hosting तथा इसमें आपको Business Plan और Premium Plan भी मिल जाता है।

डाटा बैकअप –

Hostinger की तरफ से सबसे ज्यादा अच्छा फीचर इसका डाटा बैकअप है, अगर आपका ब्लॉग किसी भी कारण से डिलीट हो जाता है यां डाटा लॉस्ट हो जाता है तो आप Hostinger की Team को Email करके अपना डाटा वापस मँगवा सकते है।

यह फीचर मेरे तब काम आया था जब मेरी वैबसाइट गलती से डिलीट हो गयी थी सिर्फ 10 मिनट में ईमेल करने के बाद Hostinger Team ने मेरे ब्लॉग का डाटा रिकवर कर दिया था।

इसके साथ ही आप समय समय पर अपने ब्लॉग का बैकअप बना सकते है जो आपको डाटा बैकअप दे देगा। इसमें आपको Shared Hosting में भी ऑटोमैटिक डाटा बैकअप का फीचर मिलता है। डेली डाटा बैकअप या weekly डाटा बैकअप के लिए जहाँ बाकि सारे होस्टिंग कंपनी को अलग से पैसा देना होता है, वो सुविधा आपको होस्टिंगर में फ्री में मिल जाते हैं।

Cloudflare Protected Nameserver –

  इसमें आपको जो Nameserver मिलता है। आपका वह Nameserver Cloudflare Protected होता है। जिस से आपकी वैबसाइट को आसानी से किसी भी प्रकार से हैक नहीं किया जा सकता है।

LiteSpeed Cache –

  Hostinger की Hosting में आप WordPress पर साइट यां ब्लॉग बनाते है तो आपको Litespeed Cache का ऑप्शन मिलता है। जिससे आपकी वैबसाइट की स्पीड काफी ज्यादा तेज हो जाती है। जिससे आपके ब्लॉग को गूगल में रैंक करना काफी आसान हो जाता है। आप इसका इस्तेमाल साइट का लोड टाइम घटाने के लिए कर सकते है। ये फीचर आपको कुछ 3 – 4 बड़ी कंपनी ही देती है।

Subdomain Feature –

  आपको Hostinger के सभी Shared Hosting Plan में Subdomain का इस्तेमाल करने का फीचर मिलता है। जिसकी मदद से आप अपने डोमैन के अलग अलग Subdomain बना सकते है जैसे आपकी मुख्य साइट है तो ईसे सबडोमैन बना सकते है।

Custom Email –

  होस्टिंगर में आपको फ्री Custom Email बनाने के लिए फीचर दिया जाता है। जहाँ आप अपना खुद का ईमेल एड्रेस बना सकते हैं। ये फीचर के लिए बाकि कंपनियां अलग से पैसा लेता है।

Multiple Website Host –

  Hostinger की Shared Hosting में ही आप एक साथ 100 Websites को Host कर सकते हैं। जहाँ बाकि होस्टिंग कंपनी 1 या 3 वेबसाइट को होस्ट करने की सुविधा देती है।    

WordPress Acceleration Feature –

  Hostinger में आपको वर्डप्रेस वेबसाइट के लिए Acceleration मिलता है जो की आपके ब्लॉग या वेबसाइट को काफी ज्यादा फ़ास्ट कर देता है। मतलब होस्टिंगर की shared होस्टिंग में ही आपको अपने Hosting Server के लिए Optimized किया हुआ Server मिल जाता है।

 

 

*BUYING GUIDE*

  अगर आप Beginners है यानी एकदम Scratch से स्टार्ट करना चाहते हैं तो आप Single Shared Web Hosting लीजिये। अगर आप ब्लॉगर से वर्डप्रेस पर माइग्रेट करना चाहते हैं तो आप Premium या Business Shared Web Hosting लीजिये। क्यूंकि आपके वेबसाइट/ब्लॉग पर पहले से ही कंटेंट है। इस सिचुएशन में Single Web Hosting कभी मत लेना।

अगर आपके ब्लॉगर ब्लॉग पर कुछ 50 से ज्यादा पोस्ट है और आप वर्डप्रेस पर माइग्रेट करना चाहते हैं तो आप Shared होस्टिंग का Premium प्लान खरीदे। अगर आपके ब्लॉग में 1-2 लाख के अंदर ट्रैफिक आते हैं तो Hostinger की Premium या Business Shared या WordPress Hosting सबसे बेस्ट है।

अगर आपके ब्लॉग में 2 लाख से ज्यादा ट्रैफिक आते हैं Hostinger के Cloud Hosting सबसे बेस्ट है। मैं खुद Hostinger की Shared Hosting ही Use करते हैं। आज तक कोई प्रॉब्लम नहीं आया। मुझे उम्मीद है की आपको कोई प्रॉब्लम नहीं आएगा। अगर आप आप कोई confusion में हैं की कौनसा प्लान ख़रीदे तो नीचे कमेंट में मुझे सवाल कर सकते हैं।

अगर आप मेरे लिंक से Hostinger की होस्टिंग खरीदते है तो मैं आपको कुछ Bonus दूंगा फ्री में –

  • GeneratePress Premium Theme with Lifetime Free Update (Worth $249)
  • WP Rocket Plugin with 1 Year Free Update (Worth $249)
  • Rich Dad Poor Dad Hindi Original eBook (Worth Rs. 220)
  • Traffic Secrets by Russell Brunson Original eBooks (Worth Rs. 1605)
  • WooCommerce Premium Plugin (Worth Rs. 30,000)
  • Blogging & Affiliate Marketing eBook by Pro Author (Like Harsh Agarwal) (Worth Rs. 2000)

  उसके लिए आप मुझे मेरे Affiliate Link से होस्टिंग खरीदने के बाद स्क्रीनशॉट लेकर मुझे ईमेल करें – thoughtinhindiweb@gmail.com

 

hostinger shared hosting plans
 

FAQ’S

Uptime का मतलब क्या है?

जैसे की अलग अलग Hosting Provider आपको बताते हैं 99.9% Uptime Guarantee, 99.95% Uptime Guarantee, 99% Uptime Guarantee, – इसका मतलब यही है की आपके ब्लॉग या वेबसाइट 24/7/365 दिन में कितने टाइम के लिए Online रहता है यानी लोग आपके ब्लॉग या वेबसाइट को दिन भर में चाहे कभी भी हो Access कर पाता है। 99.9% Uptime मतलब सबसे बढ़िया Hosting Server Uptime.

SSD Storage का मतलब क्या है?

SSD (Solid State Drive) Storage का मतलब यही है Fastest Speed Storage. इसे आप DVD VS Memory Card के एक्साम्प्ल से समझ पाएंगे, HDD को आप DVD से compare कर सकते हैं, और SSD को Memory Card से Compare कर सकते हैं।
यानी DVD के अंदर एक Disk होता है जो चलने में काफी समय लगता है। लेकिन Memory Card में तो Disk नहीं होता है तो वो काफी फ़ास्ट है DVD के मुकाबले।
इसी तरह SSD के अंदर कोई Disk नहीं होता है बड़ा सा Memory Card की तरह होता है जो काफी ज्यादा Fast है।
तो जब भी आप Hosting ख़रीदे तो आपको SSD Hosting ही खरीदना चाहिए। HDD Hosting कभी मत लेना, बाद में आपको पछताना पड़ेगा।
इसलिए होस्टिंग खरीदने से पहले इसे check जरूर करें। अगर SSD Storage नहीं है तो मत ख़रीदे।

RAM की जरुरत होस्टिंग में क्यों हैं?

जैसे एक मोबाइल फ़ोन चलने के लिए RAM की जरुरत होती है वैसे ही होस्टिंग में भी RAM की जरुरत होती है क्यूंकि जो आपका कंटेंट उस स्टोरेज में ऑनलाइन सेव होता है तो जब आपके विसिटोर्स उस कंटेंट को एक्सेस करेगा तो एक टेम्पररी मेमोरी की जरुरत तो पड़ेगी ही।

Domain Name क्या है?

जैसे आपका नाम है, वैसे ही इंटरनेट में आपकी वेबसाइट को एक पहचान देने के लिए एक नाम की जरुरत होती है, जिसको हम Domain Name बोलते हैं। जैसे – Google.com, Facebook.com, Youtube.com, Thoughtinhindi.com, etc.

SSL Certificate क्या है?

SSL Certificate एक इंटरनेट प्रोटोकॉल है, SSL का फुल फॉर्म है Secure Sockets Layer. ये प्रोटोकॉल इंटरनेट ब्राउज़र और वेबसाइट के बिच एक सुरक्षित संपर्क प्रदान करता है, जो इंटरनेट यूजर को ये अनुमति देता है की वो अपने डाटा को दुसरे वेबसाइट के साथ अदला बदली सुरक्षित रूप से कर सके। एसएसएल, जिसे आमतौर पर टीएलएस कहा जाता है, इंटरनेट ट्रैफ़िक को एन्क्रिप्ट करने और सर्वर पहचान की पुष्टि करने के लिए एक प्रोटोकॉल है। HTTPS वाली हर वेब एड्रेस वाली कोई भी वेबसाइट SSL / TLS का उपयोग करती है।
बिना SSL के आपके वेबसाइट Secure नहीं है।

Bandwidth क्या है?

Bandwidth का मतलब यह है की आपके जो कंटेंट होस्टिंग या Server में Save होता है, एक सेकंड पर वो कंटेंट कितने बार या एक बार में कितने size (MB) में आपके User Access कर पाएंगे। सिंपल शब्द में कहूं तो आपके यूजर तक मैक्सिमम कितने डाटा ट्रांसफर हो सकते हैं।

Litespeed टेक्नोलॉजी क्या है?

Litespeed एक Web Server Software है, जो आपके वेबसाइट की स्पीड को Acceleration करने में मदद करता है। मतलब Litespeed को Web Server को चलाने के लिए यूज़ में लिया जाता है। जैसे मोबाइल में Android या IOS है वैसे Litespeed भी वैसी ही है। ये सबसे ज्यादा स्पीड वाले वेब सर्वर है।

Custom Email क्या है?

Custom ईमेल का मतलब आप अपना खुद का ईमेल बना सकते हैं अपने हिसाब से। जैसे – official@thoughtinhindi.com

CDN क्या है?

CDN का फुल फॉर्म है Content Delivery Network. मतलब आपके कंटेंट आपके यूजर तक Safely और Securely एक्सेस होता है। CDN आपके कंटेंट को Cloud Server में स्टोर करता है, जहाँ आपके वेबसाइट की लोडिंग स्पीड काफी बढ़ जाता है और आपकी वेबसाइट बहुत ज्यादा सिक्योर हो जाता है, आपकी विसिटोर्स चाहे कही से भी आपका कंटेंट एक्सेस करे, वो उनके ब्राउज़र पर जल्दी लोड हो जाते हैं। जब आप अपने वेबसाइट में CDN का यूज़ करते हैं तब आपके कंटेंट आपके यूजर को अलग अलग सर्वर से हो कर मिलते हैं, जिससे आपके वेबसाइट की असली सर्वर किसी को पता ही नहीं लगता है और इसलिए आपके साइट पर हैकिंग अटैक का परसेंटेज बहुत ही कम हो जाता है।

Control Panel क्या है?

कण्ट्रोल पैनल बहुत सारे प्रोग्रामों का समूह होता है। जिसका प्रयोग अपने होस्टिंग अकाउंट के सारे काम – जैसे अकाउंट सेटिंग, वर्डप्रेस dashboard, होस्टिंग प्लान अपग्रेड या रेनू, कस्टम ईमेल सेटअप & कण्ट्रोल, डोमेन या sub डोमेन क्रिएट, CDN कनेक्ट, CMS (Content Management System) कण्ट्रोल या इंस्टालेशन, फाइल मैनेजर, backups, databases, डोमेन Name मैनेजमेंट, कैश मैनेजमेंट, SSL इनस्टॉल, etc. कण्ट्रोल होता है। मतलब होस्टिंग के ऊपर आपके सारे जो कण्ट्रोल होता है वो आपको कण्ट्रोल पैनल में ही मिलता है।

Backups क्या है?

Backups का मतलब है आप जो भी कंटेंट अपने होस्टिंग के अंदर सेव करते हैं, वो परमानेंटली आपके होस्टिंग के अंदर सेव नहीं होता है, अगर आपने किसी भी गलती की वर्डप्रेस के ऊपर तो आपका सारा डाटा या कंटेंट डिलीट हो जायेंगे, इसलिए आपको अपने वर्डप्रेस का backups बनाना जरुरी है और वो चीजें होस्टिंग के अंदर ही आपको मिलता है। होस्टिंगर के सिंगल शेयर्ड होस्टिंग वाले प्लान में आपको वीकली बैकअप ऑप्शन फ्री में मिलता है, लेकिन ब्लूहोस्ट के अंदर आपको खरीदना पड़ता है। लेकिन जब आप किसी भी होस्टिंग प्लान ख़रीदे तो बैकअप को अलग से खरीदने की जरुरत नहीं है, होस्टिंगर में आपको फ्री में वीकली बैकअप मिलता है तो आपको उसको इस्तेमाल करना चाहिए। उसके बाद भी आप जब वर्डप्रेस को इनस्टॉल कर लेंगे तो एक प्लगइन के मदद से आप अपने साइट की बैकअप फ्री में ले सकते हैं जिसका नाम है – Updraft.

Cache Engine क्या है?

जब आपके वेबसाइट पहली बार कोई यूजर एक्सेस करता है तो उनके ब्राउज़र में आपके वेबसाइट के कुछ डाटा सेव होता है, जैसे यूजर ने जो जो पोस्ट एक्सेस किया था, जिस जिस पेज में गए थे वो सारे यूजर के ब्राउज़र पर टेम्पररी सेव होता है और उसी को हम Cache बोलते हैं और वो Cache सेव करने का काम जिस के थ्रू होता है उसी को Cache Engine बोलते हैं। ये आपके होस्टिंग में इनबिल्ट भी मिलते है, लेकिन इतने अच्छे से काम नहीं करते, उसके आपके वर्डप्रेस में एक सबसे बेस्ट प्लगइन को इनस्टॉल करना पड़ेगा जिसका नाम है – WP Rocket

Conclusion

आपको आज के इस आर्टिकल (Hostinger Genuine Reviews in Hindi – होस्टिंगर से होस्टिंग क्यूँ खरीदना चाहिए ?) में हमने Hostinger की Shared Hosting नयें Blogger को क्यों खरीदनी चाहिए इसके बारे में बताया है। Hostinger की Hosting के बारे में हमने आपको इसके फीचर्स के बारे में बता दिया है।

अगर आप भी अपना नया ब्लॉग शुरू करने की सोच रहे है या ब्लॉगर से वर्डप्रेस पर माइग्रेट करना चाहते तो आपको Hostinger की Hosting जरूर खरीदनी चाहिए। अगर आप चाहते हैं तो बाकि होस्टिंग कंपनी की होस्टिंग को compare करके देख सकते हैं।

तो अब आप मुझे बताये की क्या आप होस्टिंगर की होस्टिंग खरीदेंगे या नहीं ? नीचे कमेंट में जरूर बताये। इस “Hostinger Genuine Reviews in Hindi – होस्टिंगर से होस्टिंग क्यूँ खरीदना चाहिए ?” को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

सम्बंधित लेख

  1. Online Blogging से पैसे कमाए | Blogging Introduction & My Journey
  2. Hostinger Single VS Bluehost Basic Shared Hosting Plans (Detail Hindi Guide)
  3. Hostinger Premium VS Bluehost Choice Plus Shared Hosting Plans (Detail Hindi Guide)
  4. Hostinger Business VS Bluehost Pro Shared Hosting Plans (Detail Hindi Guide)

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए दिल से धन्यवाद,

Wish You All The Very Best.

Leave a Comment